अलगाववादियों के हिमायती बताएं शोपिया में अपने घर आए जवान इरफान अहमद की हत्या क्यों की गई? क्या किसी कश्मीरी का देश की हिफाजत करना गुनाह है?

#3314
अलगाववादियों के हिमायती बताएं शोपिया में अपने घर आए जवान इरफान अहमद की हत्या क्यों की गई? क्या किसी कश्मीरी का देश की हिफाजत करना गुनाह है?
========
25 नवम्बर को कश्मीर में शोपियां में भारतीय सेना के जवान इरफान अहमद डार का शव बरामद किया गया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार इरफान उत्तरी कश्मीर के बांडीपोरा जिले में नियंत्रण रेखा के पास गुरेज सेक्टर में तैनात था, लेकिन इन दिनों छुट्टियां बिताने के लिए अपने घर आया था। एक दिन पहले ही इरफान का अपहरण हुआ और आज तड़के उसका शव बरामद किया गया। माना जा रहा है कि भारतीय सेना में काम करने की वजह से ही आतंकवादियों ने इरफान की हत्या की है। इस हत्या का जवाब अब कश्मीर के अलगाववादियों के हिमायतियों को देना चाहिए। अनेक मौकों पर राजनेता, लेखक, प्रगतिशील विचारक आदि अलगाववादियों की हिमायत में आकर खड़े हो जाते हैं। ऐसे हिमायती यह बताएं कि क्या कोई कश्मीरी देश की हिफाजत का काम नहीं कर सकता है? जो लोग दिल्ली में बैठ कर अलगाववादियों की हिमायत करते हैं उन्हें यह समझना चाहिए कि कश्मीर में सेना के जवान भी अपना बलिदान देकर दिल्ली की सुरक्षा कर रहे हैं। आज कश्मीर में राजस्थान से लेकर असम और तमिलनाडु से लेकर दिल्ली के युवा सैनिक के तौर पर तैनात हैं। किसी भी प्रांत के सैनिक ने कभी भी कश्मीरियों की सुरक्षा से इंकार नहीं किया। उल्टे कश्मीरियों के विरोध के बाद भी हमारे जवान तैनात रहते हैं। कई बार तो एक तरफ से आतंकवादियों की गोलियां और दूसरी तरफ से अलगाववादियों के पत्थर खाने पड़ते हैं। कल्पना की जा सकती है कि तब हमारे सैनिकों के मन की स्थिति कैसी होती होगी? जिन कश्मीरियों की सुरक्षा के लिए आतंकियों की गोलियां खानी पड़ रही है वे ही पत्थर फेंक रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद भी अलगाववादियों की हिमायत की जाती है। ऐसे हिमायतियों को अब कम से कम इरफान की हत्या की निंदा तो करनी ही चाहिए। हिमायती यह भी बताएं कि इरफान के हत्यारों के साथ क्या किया जाए? इससे पहले भी आतंकियों ने सुरक्षा बल में कार्यरत अधिकारियों की हत्या की है। भारतीय सेना के जवान इरफान की हत्या के बाद कश्मीर के उन अधिकारियों की सुरक्षा को भी खतरा हो गया है जो राजस्थान सहित अन्य राज्यों से नियुक्त हंैं।
एस.पी.मित्तल) (25-11-17)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
================================
M: 07976-58-5247, 09462-20-0121 (सिर्फ वाट्सअप के लिए)