मांस तस्करी के मामले में अदालत में उपस्थित नहीं हो रहे हैं टोंक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष नवेद बर्फवाला। नगर परिषद में भाजपा को दे रखा है समर्थन। प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी के साथ फोटो।

#3325
मांस तस्करी के मामले में अदालत में उपस्थित नहीं हो रहे हैं टोंक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष नवेद बर्फवाला। नगर परिषद में भाजपा को दे रखा है समर्थन। प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी के साथ फोटो।
=====
मांस तस्करी के आरोप में लगातार अदालत में अनुउपस्थित चल रहे टोंक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष नवेद बर्फवाला पर अब राजस्थान वक्फ बोर्ड ने भी संज्ञान लिया है। 28 नवम्बर को राजस्थान वक्फ बोर्ड के सीईओ अमानउल्ला खान ने नवेद को नोटिस जारी कर आरोपों का जवाब देने के लिए कहा है। सीईओ ने कहा है कि यदि निर्धारित अवधि में जवाब नहीं दिया तो उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। यानि नवेद को टोंक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष पद से भी हटाया जा सकता है। असल में सीईओ को शिकायत मिली थी कि मांस तस्करी कथित आरोप में रेवाड़ी की अदालत में जो मुकदमा चल रहा है उसमें नवेद उपस्थित नहीं हो रहे हैं। अदालत ने अब तक 17 बार नोटिस भी जारी किए हैं। इस मुकदमे की जानकारी राजस्थान वक्फ बोर्ड को भी है, लेकिन नवेद के द्वारा टोंक नगर परिषद में भाजपा को समर्थन देने की वजह से उनके विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं हो रही। 45 पार्षदों की नगर परिषद में कांग्रेस के 22 तथा भाजपा के 18 पार्षद हैं। लेकिन निर्दलीय पार्षदों के समर्थन से टोंक में भाजपा का बोर्ड बना हुआ है। नवेद बर्फवाला भी निर्दलीय पार्षद हैं। टोंक में भाजपा का बोर्ड बनवाने के एवज में ही सरकार ने नवेद को वक्फ बोर्ड का अध्यक्ष बनवाया। नवेद समय समय पर भाजपा के समर्थन में प्रचार प्रसार करतें रहे हैं। इसलिए उनके फोटो भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी, मदरास बोर्ड की चेयरमैन मेहरुनिशा टांक आदि के साथ हैं। लेकिन अब नवेद के मामले ने राजनीतिक तूल पकड़ लिया है। टोंक में नवेद को लेकर अनेक चर्चाएं व्याप्त हैं।
गिरफ्तारी वारंट की जानकारी नहीं -नवेदः
वहीं दूसरी ओर टोंक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष नवेद बर्फवाला ने कहा कि रेवाड़ी की किसी अदालत से उनके विरुद्ध गिरफ्तारी वारंट जारी होने की उन्हें कोई जानकारी नहीं है। वे कभी भी मांस तस्करी में लिप्त नहीं रहे हैं। पूर्व में जो वाहन पकड़ा गया था उसे वे चार माह पहले ही बेच चुके हैं। नवेद ने आरोप लगाया कि उनके राजनीतिक प्रतिद्वद्वी दुष्प्रचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान वक्फ बोर्ड के सीईओ द्वारा नोटिस दिए जाने की भी कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरे प्रतिद्वंद्वी मुझे राजनीतिक नुकसान पहुंचाने के लिए झूठे आरोप लगा रहे हैं। आरोप लगाने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जाएगी।
एस.पी.मित्तल) (28-11-17)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
================================
M: 07976-58-5247, 09462-20-0121 (सिर्फ वाट्सअप के लिए)